पोस्ट

तर्क का उत्तर तर्क हो सकता है, उपहास नहीं..कमियाँ देखते हैं तो उपलब्धियों को स्वीकार भी कीजिए

इस गुनाह में आप बराबर के साझीदार हैं