शनिवार, 1 मई 2021

या मानवी सर्व भूतेषू - भाग -2 - मानवी का पत्र

 


ईश्वर के नाम खुला पत्र, 

  दयालु, करुणा निधान, भोले -भण्डारी...कृपा सिन्धु कहे जाने वाले ईश्वर....यह तुम्हारी ही सन्तान का पत्र है....जिसे तुमने ही एक उद्देश्य से धरती पर भेजा है....धरती को सन्दर बनाने का उद्देश्य है....तुम्हारा ही अंश हूँ मैं....वह धरती...जिसे तुमने रचा है और आज जिसके प्रति तुम निष्ठुर हो चले हो....वह भी तुम्हारी ही रचना है...तुम्हारी ही एक प्रिय सन्तान ठाकुर रामकृष्ण परमहंस ने कहा था...जतो मत...ततो पथ...मैं कट्टर नहीं हूँ...जो धरती तुम्हारे प्रकोप से कराह रही है...उस धरती की सभी सन्तानें भी बुरी नहीं हैं...मेरे लिए धर्म एक ही है मानवता....सन्तान को गढ़ना तो माता - पिता का काम है.....धरती का यही नियम है...सन्तान....अच्छी हो या बुरी हो....उसे मार्ग दिखाना...उसके सिर पर हाथ रखना तो उनका ही दायित्व है.....जब तुमने उसे ही बनाया है तो हे ईश्वर....उसके पाप - पुण्य, उसके सभी कर्म - दुष्कर्म का भागी भी तुमको ही बनना चाहिए...आज धरती पर जो हो रहा है, उसका कारण क्या तुम्हारी उदासीनता नहीं है....कैसे अभिभावक हो तुम प्रभु...जिसने बच्चों को उनके हाल पर छोड़ दिया और सुध तक नहीं लेती है....माता - पिता की नजर अपने बच्चों पर रहती है और तुमने उस धरती से मुँह मोड़ लिया...जो तुम्हारी ही रचना है...जिसके मोह में पड़कर तुम धरती पर आते रहते हो...क्या उस धरती के प्रति तुम्हारा कुछ दायित्व नहीं है...अन्तर्यामी हो प्रभु...हम सबके मन में क्या चल रहा है...तुम सब जानते हो....माता -पिता रुष्ट होते हैं...डाँटते हैं...तुम डाँट चुके....थोड़ा पीटते भी हैं....तुम पीट भी चुके...पर माता - पिता सन्तान की गलती पर उसके प्राण थोड़ी न छीनते हैं......मगर तुम तो वही कर रहे हैं....जब बच्चे ही नहीं होंगे तो तुमको माता - पिता कहेगा कौन....

हे महादेव....तुम्हारी ही ज्योति से जन्मी हूँ मैं.....याद है न आपको.....आपका कैलाश पर्वत इसी धरती पर है......क्या इस भारत भूमि और समस्त सृष्टि का ऋण तुम पर नहीं है? भारत भूमि की काशी आपके ही त्रिशूल पर टिकी है, आप अपनी ही नगरी उजाड़ने में लगे हैं....यह कैसा क्रोध प्रभु...हे माता विन्ध्यवासिनी...जय माँ शेरावाली कहकर....आपके भक्त अनगिनत कष्ट सहकर आपके द्वार चले आते हैं...कई तो बीच में ही चले जाते हैं....क्या इनकी दुर्दशा देखकर आपका हृदय नहीं पसीजता....शिव - शक्ति आखिर धरती की दुर्दशा कैसे देख रहे हैं....जिसे करुणा चाहिए...उसे आप क्रोधाग्नि में जला रहे हैं....आखिर क्यों.....? क्या धरती का संरक्षण आप सबका दायित्व नहीं है....? 

संसार में जो होता है...आपकी इच्छा से होता है...जब आपकी इच्छा के बगैर एक पत्ता तक नहीं हिल सकता है तो सृष्टि में जो गलत हो रहा है...उसका भागी सिर्फ मनुष्य कैसे....आप अपने दायित्व से पीछे कैसे हट सकते हैं...और यही स्थिति रही तो क्या कोई विश्वास के साथ कह सकेगा कि 'चिन्ता की बात नहीं....ईश्वर हैं न...सब सम्भाल लेंगे? ' अपने बच्चों की श्रद्धा, उनका विश्वास, उनकी निष्ठा...उनका समर्पण....उनका परिश्रम...क्या आपके लिए कोई मायने नहीं रखता? एक बार धरती का दुःख तो समझ लेते....आपकी एक सती ने प्राण त्यागे थे तो आपने समूची सृष्टि में तांडव मचा दिया था...आज मनुष्य मर रहा है...वह किसके समक्ष तांडव करे...प्रभु भय से कुछ नहीं होता....न प्रीति होती है....न श्रद्धा जन्म लेती है....अगर भक्ति का मापदंड करुणा, प्रेम..श्रद्धा न हो तो वह बेकार है....क्या मेरे प्रभु इतने निष्ठुर और कमजोर हैं कि उनको अपनी सत्ता जताने के लिए विनाश की आवश्यकता पड़े?  मैं नहीं मानती.....आप सक्षम हैं.....आप सृष्टि के रचयिता हैं....अपनी इतनी सुन्दर रचना को ....नष्ट होते आप नहीं देख सकते....देखना चाहिए भी नहीं है...क्योंकि सृजन का एक छोटा सा बीज प्रलय की विकरालता पर भारी है....

माँ सरस्वती भी तो सृजन का मंत्र देती हैं....इसी सृजन से ही तो धरती और सुन्दर हुई है...संगीत, नृत्य, श्लोक, प्रतिमाएं, चित्र, ये सब तो मनुष्य ने ही गढ़े हैं...आपकी दृष्टि उसकी रचनात्मकता पर क्यों नहीं पड़ी....आपकी ही महिमा का बखान है....हर जगह....लोग कण - कण में आपको देखते हैं...उनके सृजन में कला के प्रति प्रेम ही नहीं बल्कि दृढ़ विश्वास भी है....क्या इस विश्वास की रक्षा करना आपका दायित्व नहीं है....? हे सृष्टि के पालक विष्णु....माता लक्ष्मी....आपका क्षीरसागर इसी धरती पर है.....हे राम.....आप तो राजा राम ....हैं....राम राज्य का उदाहरण दिया जाता है....अपनी अयोध्या को संकट में कैसे छोड़ सकते हैं.....हे कृष्ण....आपकी मथुरा....वृन्दावन....द्वारिका....सब आपकी राह देख रहे हैं....माँ काली तो हमारे पास ही वास ही करती हैं....क्या आप अपने बच्चों की रक्षा नहीं करेंगी माते....? माता लक्ष्मी...दीपावली पर अपने बच्चों का उत्साह तो आप देखती ही होंगी...आपके होते हुए आपके बच्चे भूखे मर रहे हैं....मैं तो देवत्व की तमाम परिभाषाओं को देखकर सोच में पड़ जा रही हूँ...यहाँ मानव बुरा है तो वह मानवता के लिए अपने प्राण भी दे रहा है..नैतिकता और मानवता के मापदंड ईश्वर के लिए अलग और धरती और धरतीवासियों के लिए अलग हों...यह तो हो नहीं सकता न.....

आप प्रलय लाकर भी देवता हैं और धरती पर मनुष्य के प्राणों की रक्षा करने वाले मनुष्य के योगदान का कुछ भी मूल्य नहीं....प्रश्न तो हमको आपसे करने चाहिए...अपने - अपने कार्यों के बाद धरती को बगैर सुरक्षा के आपने छोड़ कैसे दिया...? क्या धरती का निरन्तर संरक्षण आपका दायित्व नहीं था? अगर मनुष्य ने कुछ गलत किया तो उसे आरम्भ में ही आपने क्यों नहीं रोका...? बहुत से देवता, ऋषि - मुनि ऐसे हैं जिन्होंने छल - प्रपंच का सहारा लिया....मगर वे पूजे जाते हैं....अगर यह सही है तो मनुष्य पूजनीय क्यों नहीं हो सकता? क्या धरती वालों से भक्ति प्राप्त कर...अपने महिमा मंडन पर सन्तुष्ट हो जाना ही देवत्व है और यही मनुष्य करे तो वह उसका अहंकार बन जाता है...? 

मैं बहुत नासमझ हूँ...मैंने ईश्वर को परम पिता परमेश्वर कहा है...माताओं में माँ को देखा है....बच्चा अपने माता - पिता से शिकायत न करे तो किससे करे...कहाँ जाये...?  आप यह विनाशलीला बन्द करें....तब तो सृजन का कार्य आगे बढ़े...पहले अपनी क्रोधाग्नि से मेरी धरती मइया को मुक्त करेंगे तभी तो उनकी हरितिमा वापस लौटेगी....मक्का - मदीना....जेरुसलम....ननकाना साहब.....सारी दुनिया में आपके अलग - अलग रूप पूजे जाते हैं पर मैं तो भारत भूमि से हूँ...वहीं भारत भूमि .....जहाँ आपने असंख्य अवतार लिए...लीलाएं कीं....बताया कि वसुधैव कुटुम्बकम होता क्या है.....क्या उस वसुधा के प्रति उस भारत भूमि के प्रति आपको लेश मात्र भी मोह नहीं....जरा सा भी प्रेम नहीं हैं....वह हमारी ही नहीं आपकी भी मातृभूमि है.....जननी जन्म भूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी....

आप ही तो कहते हैं....यदा - यदा हि धर्मस्य......तो हम आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं....अब बहुत हुआ....यह तांडव समाप्त कीजिए....वरना ऐसा न हो....आपके प्रति विश्वास रखने वाला ही कोई न हो क्यों भक्त को ईश्वर चाहिए तो ईश्वर को भी भक्त चाहिए...अगर संतान को माता - पिता चाहिए तो माता - पिता को भी सन्तान चाहिए....अब अपना वरद हस्त धरती माता पर रखिए....इतना गुस्सा ठीक नहीं ...मान जाइए....मनाने वाले रूठ गये तो बड़ी दिक्कत होगी फिर....कहे देते हैं....सुन रहे हैं न आप लोग....आइए....हम सब आपकी करुणा की प्रतीक्षा में हैं....जीवन का रस धरती पर बरसाइए...कि सृजन का रथ चलता रहे.....।

मानवी

आप सबका अंश और उससे पहले धरतीपुत्री


मानवी पत्र के उत्तर की प्रतीक्षा में है....धरती पर हो रहा करुण - क्रन्द्रन....वायरस के कारण हो रहे मृत्यु तांडव ने उसे विवश कर दिया था कि अब वह अपनी बात कहे...उसने कहा और एक कागज उसे पैर के पास पड़ा मिला...

प्रिय पुत्री मानवी,

प्रसन्नता है कि तुम अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित हो...देखो...बहुत कुछ करना बाकी है...तो विश्राम नहीं, अब श्रम के लिए तैयार रहो...धरती की चिन्ता मत करना...अब सब ठीक होगा..।

निर्माण, पालन और विध्वंस...यही तो सृष्टि के नियम हैं..पुराने पत्ते झड़ते हैं तभी तो वसन्त आता है...बुरा बीतता है तो अच्छा होता है....अंधकार के गर्भ में ही तो प्रकाश छिपा होता है...। रात बीतती है तो भोर होती है...तुम वही भोर हो...।

हमने कभी नहीं चाहा कि आडम्बर से हमें पूजा जाये या कोई भय के कारण कोई हमारी आराधना करे...अगर भय भक्ति का कारक है तो इससे अधिक शोचनीय....और लज्जास्पद तो कुछ हो ही नहीं सकता...। हम तुम्हारी इस बात से सहमत हैं कि प्रत्येक देवी - देवता एक जैसे नहीं तो मनुष्य भी सारे एक जैसे नहीं हैं...नियम तो फिर नियम हैं...अगर ध्यान से देखोगी तो पाओगे कि हर एक अवतार में देवी - देवताओं ने भी अपने कर्म फल को स्वीकार किया है...मनुष्यों की तरह की सुख - दुःख का जीवन जीया मगर यह हम मानते हैं कि धरती का संरक्षण सिर्फ मनुष्यों का ही दायित्व नहीं...अपितु हमारा भी है...निरंतर संरक्षण हमारा दायित्व है....धरतीवासियों की पीड़ा अब समाप्त होगी। हम...तुम्हारी और हमारी धरती को स्वस्थ कर रहे हैं...। हम अपना दायित्व निभायेंगे, निभा रहे हैं...तुम अपना दायित्व निभाओ...हमारा संरक्षण....स्नेह...प्रेम...समस्त भावनाएं तुम्हारे साथ हैं....

विजयिनी भव

समस्त देवलोक परिवार


   

   

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें