शनिवार, 30 जनवरी 2021

अपनी दुनिया में मगन बड़ाबाजार को अब बाखबर होने की जरूरत है

 


क्या आप जानते हैं की शहर कोलकाता कभी ब्लैक कोलकाता और वाइट कोलकाता में विभाजित था। दक्षिण कोलकाता और मध्य कोलकाता का दक्षिणी भाग वाइट था और बड़ाबाज़ार और उत्तर कोलकाता ब्लैक कोलकाता था। अंग्रेज पहले सूतानाटी में आये क्योंकि यह सुरक्षित था और बाद में दक्षिण की तरफ गये इसलिए तमाम अंग्रेजी इमारतें दक्षिण और मध्य कोलकाता में हैं और ब्लैक कोलकाता में बसाए गये भारतीय इसलिए यह काला रह गया। सेठ और बसाक और बाद में मारवाड़ी समुदाय का गढ़।

और ये भी बड़ाबाजार का बड़ा दरअसल बूड़ो है, बूड़ो बांग्ला में शिव को कहते हैं और मारवाड़ी समुदाय ने इसे बड़ा बनाया। बड़ाबाजार आज भी ब्लैक ही है, स्याह। बांग्ला में पढ़िये तो सेठ, बसाक, ठाकुर का गुणगान है और इसके बाद मोटिया मजदूरों का गढ़, जिसे वो हिकारत से देखते हैं, बड़ाबाजार ने जिनको पनाह दी, दूर देश से आये जिन लोगों की शरणस्थली बना, वो भी पुष्पित पल्लवित होते ही इसे छोड़ गये। अब ये इलाका उनके लिये इतिहास की पंक्ति भर है
बड़ाबाजार ने सबको पनाह दी और सबने बड़ाबाजार को त्यागा और अब हिंदीभाषियों का वोट बैंक तोड़ने के लिये इसे स्थानांतरित करने की तैयारी है। कोई राजारहाट बड़ाबाजार नहीं बन सकता, बड़ाबाजार से पुष्पित पल्लवित होने वाले समझें की उन पर ये ऋण है। क्यों नहीं वो विकास का कोई ऐसा मॉडल विकसित करते, जिनमें इन तंग गलियों को एक नया रूप दिया जा सके। क्यों नहीं यहाँ के खाली पड़े मकानों को नया रूप देकर बड़ाबाजार को श्वेत नहीं तो गेहुआ बनाया जाय। आप राजस्थान जाकर अपनी मातृभूमि को संवार सकते हैं तो बड़ाबाजार तो आपकी शरणस्थली है, इसे क्यों नहीं? क्या यह कृतघ्नता नहीं? 
सवाल तो हम पूछेंगे की 19वीं सदी के बाद बड़ाबाजार का इतिहास क्यों दबाया गया? हमारी प्राचीन इमारतें भी आपकी हेरिटेज सूची में क्यों नहीं दिखतीं? आखिर क्यों बड़ाबाजार की पहचान उसका गौरवशाली इतिहास नहीं बल्कि हर बार लगने वाली अग्निकांड की राख को बनाया जा रहा है? आखिर कलकत्ते का वह कौन सा हिस्सा है, जहाँ पर आग नहीं लगती और कलकत्ते के किस इलाके में तंग गलियाँ नहीं हैं....कौन से हिस्से में क्षतिग्रस्त मकान नहीं हैं...तो फिर यह पहचान बड़ाबाजार के साथ ही क्यों चिपका दिये गये हैं....अगर एक विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में मोबाइल शौचालय की व्यवस्था हो सकती है, पुस्तक मेले में पाउच में पानी मिल सकता है तो बड़ाबाजार की तंग गलियों में क्यों नहीं मिल सकता? अंग्रेजों का सौतेलापन आज भी सरकारों ने क्यों बरकरार रखा है...क्या यह बड़ाबाजार के साथ साजिश नहीं है? 
सारी दुनिया के मजदूरों को एक करने की बात करने वाले पोस्ता के मुटिया मजदूरों को क्यों नहीं अपना पाते? क्यों हिकारत से देखते हैं? क्या वो हिन्दीभाषी है इसलिए या वो बिहार से हैं इसलिए? हमारे बिहार में आपके बंगाल के दिग्गज बढ़े हैं और भागलपुर से शरत बाबू का रिश्ता तो बानगी मात्र है। 
तो अब सवाल होगा की फिर बड़ाबाजार का विकास कैसे हो, तो इसके लिये राजारहाट जाने की जरूरत नहीं है, कुछ सुझाव हैं
- बहुत से विशाल राजप्रासाद और हवेलियाँ यहाँ खाली पड़ी हैं, सरकार या फिर कोई उद्योग समूह इनको अधिग्रहीत कर के इनको, उनके मूल रूप में संवार कर खड़ा कर सकता है। मॉल्स, आवास या रेस्तरां के रूप में विकसित कर सकता है मगर ढांचा वही रखिये, क्योकि यही इसकी यू एस पी है। 

इसके बाद जो मकान खाली पड़े हों, वहाँ मजदूरों को क्वार्टर दीजिये, सडकों की भीड़ ऐसे ही कम हो जाएगी। और ये सम्भव है, यकीन न हो स्टार थिएटर, स्वामी विवेकानंद का पैतृक आवास और अंजलि का शोरूम आपके सामने है। इससे आपका खर्च भी बचेगा और अतिरिक्त जमीन भी नहीं चाहिये। जो है उसको फिर से खड़ा करिये उसके मूल रूप में।

गद्दी परम्परा को जारी रखिये, यही बड़ाबाजार की पहचान है और यही आपको अलग रखेगा, वैसे जी जैसे ताज में अलुमिनियम की केतली चलती है। 

हाथ रिक्शे को बैटरी चालित बनाइये, मोबाइल शौचालय बनाइये।

 दिवारों को पुराने कोलकाता की पेन्टिंग्स या अपने पूर्वजों के तस्वीरों से सजाइए। रेस्तरां हों तो अपने  राज्य के हिसाब से लुक दीजिये। और सबसे बड़ी बात की ये काम कोई मारवाडी या  हिन्दीभाषी करे, वो इसलिए की जिस प्यार से आप बड़ाबाजार को संवारेंगे, वो कोई और नहीं करेगा क्योकि आपके लिये बड़ाबाजार आपके पूर्वजों की अमानत होगा, बोझ नहीं।

अम्बुजा, बिड़ला, गोयनका, सब मिलें और बिहार व यू पी का श्रम मिले तो राजारहाट जाये बगैर बड़ाबाजार खड़ा हो सकता है।

सम्भव है की ये काम कठिन हो लेकिन यह होने पर आपको जो सन्तोष मिलेगा, आपकी आत्मा को जो सुकून मिलेगा, वो अनमोल होगा क्योकि आपको ऐसा लगेगा की आपने अपने बुजुर्गों की निशानी खोने नहीं दी










सोमवार, 18 जनवरी 2021

महापुरुषों पर गर्व करते हैं तो उनकी विरासत को सहेजना भी सीख लेते


मेरे एक शिक्षक कहा करते थे...मनुष्य दो परम्पराओं में जीवित रहता है...वंश परम्परा और शिष्य परम्परा। आमतौर पर वंश परम्परा में विश्वास बहुत ज्यादा रहता है...हमारे समाज में विवाह और परिकल्पना के पीछे यह एक मजबूत कारण है लेकिन कई उदाहरण ऐसे सामने आ रहे हैं जिसे देखकर सोचना पड़ रहा है..क्या वाकई वंश परम्परा इतनी मजबूत होती है...? कई ऐसे उदाहरण हैं जिसे देखकर कहा जा सकता है कि शिष्य परम्परा की डोर वंश परम्परा की तुलना में कहीं अधिक मजबूत होती है क्योंकि परिवार अधिकतर मामलों में बाधक की भूमिका में ही अधिक रहता है और यह दावा नहीं किया जा सकता है कि किसी भी परिवार में व्यक्ति की सफलता से घर का एक सदस्य प्रसन्न ही होगा या इसे स्वीकार किया भी जायेगा। शिक्षण का क्षेत्र भी इसी वजह से चिर लोकप्रिय है। कई बार आपके बच्चों को और आपके परिवार को आपकी कद्र नहीं होती लेकिन आपके विद्यार्थी आपके लिए खड़े होते हैं...तब भी जब आपने उनसे ऐसी कोई शर्त या उम्मीद नहीं रखी होती...वह आपसे प्रेम करते हैं....और दिल से प्रेम करते हैं...जहाँ कोई तुलना न के बराबर ही रहती है...याद रखिए कि मैं अकादमिक स्तर पर किसी साधारण शिक्षण संस्थान के विद्यार्थी की बात नहीं कर रही...आप इसे जरा सा और ऊँचाई पर ले जाइए। शिष्यों ने अपने गुरु की परम्परा को आगे ले जाने के लिए अपना पूरा जीवन होम कर दिया...समाज और परिवार,,,सबको त्याग दिया या फिर उनके ताने आजीवन सहे...। स्वामी दयानंद सरस्वती, स्वामी विवेकानंद और स्वामी श्रद्धानंद और खुद सचिन तेंदुलकर भी इसका सीधा उदाहरण है। अपने गुरु विरजानंद के वचन को रखते हुए स्वामी दयानंद सरस्वती आजीवन उनके द्वारा दिखाये मार्ग पर चले और आज भी आर्य समाज की परम्परा विद्यमान है। सचिन तेंदुलकर अपने गुरु रमाकांत आचरेकर का कितना सम्मान करते थे...यह किसी से छिपा नहीं है मगर आज इस लेख की पृष्ठभूमि जो घटना है...वह खुद में अद्भुत है मगर कुछ ऐसे सवाल भी छोड़ गयी है जिनके बारे में हमने सोचा भी नहीं है और सोचना ही चाहते हैं...। 


अभी हाल में स्वामी विवेकानंद के आवास की स्टोरी कवर करने की इच्छा पूरी हुई। स्वामी जी के इस पैतृक आवास की मूल इमारत ध्वस्त ही हो चली थी मगर रामकृष्ण मिशन ने इसे फिर से एक प्रकार से खोजकर खड़ा किया है। अब यह पैतृक आवास सह संग्रहालय तथा सांस्कृतिक केन्द्र भी है...बात इतनी सी ही नहीं है...आप इस पूरी प्रक्रिया को समझिए क्योंकि यह जगह मिशन को पूरे 30 साल की मुकदमेबाजी के बाद भी नहीं मिली थी, अतिक्रमण हटाने के लिए 54 परिवारों और व्यवसायिक केन्द्रों को पुनर्वास रामकृष्ण मिशन ने दिया है और इस प्रक्रिया में 7 साल लगे और इसके बाद बाकी 5 साल वर्तमान भवन के निर्माण में लगे...यह शिष्य परम्परा और स्वामी विवेकानंद के प्रति रामकृष्ण मिशन के उत्कट प्रेम का प्रतीक है...और यह गर्व का विषय है मगर हमारे लिए शर्म की बात होनी चाहिए।

मेरा सीधा सवाल यह है कि क्या यह सारी जिम्मेदारी रामकृष्ण मिशन की थी या होनी चाहिए? क्या स्वामी विवेकानंद सिर्फ मिशन के हैं या इस पूरे देश की जनता के हैं? क्या विचारधारा मेल नहीं खाती तो सम्मान कम हो जाता है..? यह सवाल राज्य सरकार के साथ केन्द्र सरकार से भी है...वैसे भी स्वामी जी जब जीवित थे...तब भी उनके परिवार को दरिद्रता देखनी पड़ी। माता भुवनेश्वरी के लिए खेतड़ी महाराज अजीत सिंह को पत्र लिखना पड़ा.....क्या उस समय बंगाल में रईसों का अकाल था...? 

जिस शोभाबाजार राजबाड़ी की 36 -37 इमारतें थीं...वह स्वामी जी को मठ के लए जगह क्यों नहीं दे सकी... जब कि अंग्रेजों को चर्च बनाने के लिए इस परिवार ने जमीन दी? स्वामी विवेकानंद और रवीन्द्रनाथ ठाकुर की मित्रता की बातें की जाती हैं तो फिर ऐसा क्यों हुआ कि रवीन्द्रनाथ के रहते हुए माता भुवनेश्वरी देवी को दरिद्रता में दिन काटने पड़े। याद रहे कि भुवनेश्वरी देवी पुत्र स्वामी विवेकानंद के निधन के बाद 9 साल जीवित रहीं। उनका निधन मेन्जाइटिस से 1911 में हुआ और रवीन्द्रनाथ को 1913 में नोबल पुरस्कार मिला।

स्वामी विवेकानंद और खेतड़ी महाराज अजीत सिंह

माफ कीजिए मगर मुझे ऐसा कोई कारण नजर नहीं आता कि मैं धनाढ्य ठाकुर परिवार की जमीन्दारी पर गर्व करूँ। कई बार लगता है कि जैसे उस समय भी कोई लॉबी काम करती थी जिसका काम स्वामी जी जैसे लोगों को उपेक्षित रखना था...। जमीन्दार घरानों की कमी तो थी नहीं और ईश्वर चन्द्र विद्यासागर जैसे व्यक्तित्व ने बगैर कुछ पड़ताल किये कैसे नरेन को नौकरी से निकाल दिया....क्या अन्दर ही अन्दर शीत युद्ध जैसा कुछ था या फिर स्वामी विवेकानंद की बढ़ती लोकप्रियता इन सबको रास नहीं आ रही थी...आखिर क्यों बंगाल की धरती पर एक शख्स ऐसा नहीं हो सका जो स्वामी जी की शिकॉगो यात्रा का खर्च उठा सकता......? भुवनेश्वरी देवी की तरह ही माँ शारदा को भी दरिद्रता देखनी पड़ी...क्या यही बंगालीपन था....जिसका दम भरते बंगाल का मन नहीं भरता......? 
स्वामी विवेकानंद ने कभी जड़ता को प्रोत्साहन नहीं दिया मगर आजादी के बाद वामपंथ और कांग्रेस की सरकार ने इनको लगातार उपेक्षित किया वरना ऑपरेशन सन शाइन के नाम पर खटाल उजाड़ने वाले वामपंथी सरकार इतनी कमजोर नहीं थी कि अवैध अतिक्रमण हटवाने के लिए कोई मामला 30 साल तक चले।   

जिस घर के सामने सिर झुक जाना चाहिए...आखिर वहाँ पर अतिक्रमण कोई कैसे कर सकता है और हटाने पर आप मुकदमा करेंगे....ऐसी न जाने कितनी ही हमारी धरोहरें हैं जो अतिक्रमण का शिकार हैं...बंगाली समाज जब इतना जागरुक है तो यह अपने पूर्वजों के अधिकार और उसके सम्मान के लिए आवाज क्यों नहीं उठाता...क्यों नहीं जेयू और प्रेसिडेंसी के विद्यार्थी सुबोध मलिक के घर को बचाने के लिए सामने आते हैं...जो कि निरन्तर खत्म होता जा रहा है.... रामकृष्ण मिशन स्वामी जी के आवास का निर्माण करे..यह बात समझी जा सकती है मगर पुनर्वास का जिम्मा....क्या यह सरकारों और कॉरपोरेट घरानों की जिम्मेदारी नहीं थी..क्या यह स्थानीय लोगों की जिम्मेदारी नहीं है कि अपनी धरोहरों को अतिक्रमण से बचायें....इसके लिए क्या अलग से कानून बनाने की जरूरत है या आपके पास जमीर नाम की चीज है.....आज जब यह भवन बनकर तैयार है तो बड़ी शान से बंगाल के पर्यटन के मानचित्र पर इसे दर्ज किया गया है मगर जब यह लुप्त होने की ओर था...तब यह गौरव कहाँ था...लेकिन ठाकुर के शिष्य की परम्परा बहुत मजबूत है तभी तो रामकृष्ण मिशन ने इस भवन को फिर से खड़ा किया और आप जब भी इसे देखेंगे....विश्वास मजबूत होता रहेगा मगर इसके साथ ही जब खुद पर नजर डालेंगे तो शायद खुद से नजर भी न मिला सकें।

शनिवार, 9 जनवरी 2021

खुद से पूछिए, विवेकानंद चाहिए तो क्या परमहंस बनने को तैयार हैं?

12 जनवरी आ रही है और देश में युवा दिवस मनाया जायेगा। युवाओं के साथ मैं कई सालों से काम कर रही हूँ, पत्रकारिता करते हुए युवाओं के साथ ही बात भी होती रही है और उनको समझना थोड़ा सा आसान हो गया है। हर बार मंच पर सबको यही कहते सुना है कि युवाओं को मौका मिलना चाहिए या देना चाहिए लेकिन युवाओं से हम उम्मीद यही रखते हैं कि वह आज्ञाकारी बने रहें, उनके सवालों के लिए हम तैयार नहीं रहते। जो करते हैं, वह खानापूर्ति से अधिक कुछ नहीं होता। उदाहरण के लिए अगर हम अपने कार्यक्रमों को लेकर ही बात करें तो वहाँ पर केन्द्रीय भाव इतना अधिक रहता है कि बाकी चीजें पीछे छूट जाती हैं। कहने का मतलब यह है कि कोई साहित्य पढ़े तो उसे विज्ञान से मतलब नहीं रखना चाहिए या कोई विज्ञान का विद्यार्थी है तो उसके लिए साहित्य पढ़ना एक अजूबा माना जाता है जबकि हकीकत यह है कि दोनों ही क्षेत्र से जुड़े लोगों की पसन्द उनकी शिक्षा या पाठ्यक्रम के विपरीत हो सकती है। जैसा कि पहले भी कहती रही हूँ कि हिन्दी में विशेष रूप से भाषा को सुधारने की बात होती है, भाषा को रोजगार से जोड़ने की बात होती है मगर साहित्य को रोजगार से जोड़ने की बात कम ही होती है। जिस तरह हिन्दी सिनेमा का मतलब बॉलीवुड मान लिया गया है, वैसे ही साहित्य का मतलब भी कविता या कथा साहित्य भर को मान लिया गया है। अधिकतर कार्यक्रम ऐसे होते हैं जिनमें दिग्गज ही बोलते हैं और युवाओं का काम सिर्फ सुनना होता है। ऐसा नहीं है कि युवाओं के विचार सुने नहीं जाते, सुने जाते हैं मगर बड़ों को उनकी असहमति का स्वर अब भी नहीं भाता। 

इसका एक सीधा कारण है बात करने का तरीका...सन्तुलित तरीके से अपनी बात रखना, विरोध करना या असहमति प्रकट करना हमारे युवा सीख नहीं पाये हैं। अपनी बात नहीं सुने जाने की खीझ ही नाराजगी बनती है और बात में विद्रोह और विद्रोह के नाम पर याद आती हैं राजनीतिक पार्टियाँ और उनके छात्र संगठन...जो आम युवाओं का इस्तेमाल अपनी ताकत बढ़ाने और दिखाने के लिए करते हैं। एक समय था जब छात्र राजनीति से बड़े दिग्गज नेता निकले।  सहमति और असहमति के बावजूद देश की राजनीति में उनका महत्व है। यह सोचने का विषय है कि धरने और प्रदर्शन की राजनीति की भरमार के बाद भी एक अच्छा नेता छात्र राजनीति क्यों नहीं दे सकी? उससे भी बड़ा प्रश्न यह है कि आखिर हिन्दी भाषी विद्याथिर्यों में एक अच्छा नेतृत्व क्यों नहीं उभर पा रहा है? क्यों हिन्दीभाषियों का प्रतिनिधित्व किसी का झंडा उठाने या बाउंसर बनने तक सिमट गया है...इन सवालों की जड़ में जब आप जाते हैं तो जवाब एक ही मिलता है...युवाओं को बोलने ही नहीं दिया जाता और जब वे बोलते हैं तो आप सुनना नहीं चाहते, जब आप मन मारकर सुन लेते हैं तो उनकी बात मानने से आपके अहं को तकलीफ होती है। शायद यही कारण है कि किसी भी कार्यक्रम के अंत में प्रश्नों के लिए 10 - 15 मिनट होते तो हैं, मगर अधिकतर मामलों में वे समय़ की कमी की भेंट चढ़ जाते हैं। किसी युवा ने सवाल कर दिया तो आप खुद को अपमानित महसूस करते हैं और कई धुरन्धर तो ऐसे होते हैं कि सवाल करने वाले विद्यार्थी या युवा का जीवन और कॅरियर तबाह करने में कोई कसर नहीं छोड़ते। यकीन न आये तो कभी अकादमियों, संस्थानों की कुर्सियों पर नजर डालकर देखिएगा....विनम्रता के नाम पर चाटुकारिता की परम्परा को घी पिलाकर जिज्ञासा और ज्ञान की परम्परा में मट्ठा डाल दिया गया है। अगर परम्परा की बात करते हैं तो यह भी याद करिएगा कि रामकृष्ण परमहंस को भी स्वामी विवेकानंद के संशय का समाधान करना पड़ा था...नरेन्द्र एक ही बार में आँख बंद करके पैर छूने वाले शिष्य नहीं थे मगर गुरु का धैर्य ऐसा था कि अन्त में शिष्य ने उनको स्वीकार किया...आप विवेकानन्द जैसे शिष्य बाद में खोज लें....पहले खुद से सवाल कीजिए...क्या आप रामकृष्ण परमहंस या स्वामी दयानन्द सरस्वती के गुरु विरजानंद बनने को तैयार हैं..? सोचिए और तब युवाओं का आकलन करिए।